Rclipse - Education Point: RAJASTHAN GK

Showing posts with label RAJASTHAN GK. Show all posts
Showing posts with label RAJASTHAN GK. Show all posts

राणा लाखा (Rana Lakha) | महाराणा लाखा (Maharana Lakha) | Indian History | लक्षसिंह (Laksh Singh) | India history | Ssc | Ibps | Rpsc | Gk Guru | Banking Guru | Gk Tricks In Hindi | Rajasthan Gk | Rajasthan History

महाराणा लाखा (Maharana Lakha)

इनका दूसरा नाम लक्षसिंह था।

सिसोदिया वंशीय यह एकमात्र शासक थे जिन्होने 62 वर्ष की आयु में मारवाड़ के रणमल राठौड़ की बहन हंसाबाई से विवाह किया।

राणा लाखा का वास्तविक उत्तराधिकारी 1421 ई. में राणा मोकल बना जो हंसा का ज्येष्ठ पुत्र था।

महाराणा लाखा ने ‘झोटिंग भट्ट‘ एवं ‘धनेश्वर भट्ट‘ जैसे विद्वान पण्डितों को राज्याश्रय दिया।

जावर लाखा के शासनकाल में जावर से चाॅंदी की खान निकली।

चौहान वंश (Chouhan Vansh) Indian History || Chauhan Vansh || Chauhan Vansh Indian History || India History || Indian history || Gk Tricks In Hindi || Gk Tricks || General Knowledge || Banking Guru || India Gk || Ssc || Ibps || Rpsc

चैहान वंश (Chouhan Vansh)
(Indian  History)




चौहान वंश (Chouhan Vansh) :-

शाकम्भरी के चौहान :-
                                वासुदेव चौहान ने 551 ई. में इस वंश की स्थापना की। वासुदेव चौहान ने साम्भर झील का निर्माण करवाया। इसका प्रमाण 1170 ई. में स्थापित बिजोलिया शिलालेख है।

                              चौहान वंश की अनेक शाखाऐं थी। इनमें सबसे प्रसिद्ध शाकम्भरी की शाखा थी। शाकम्भरी का समीकरण आधुनिक अजमेर के उत्तर में साम्भर नगर से लिया जाता है।

                             इस वंश के प्रारम्भिक शासक गुर्जर-प्रतिहारों के सामन्त के रूप में राज्य करते थे।

वाकपतिराज प्रथम :- 10 वीं शताब्दी के आरम्भ में वाकपतिराज प्रथम ने प्रतिहारों से अपने को स्वतंत्र कर लिया।

अजयराज :- 1113 ई. में अजमेर नगर की स्थापना की इन्होने तुर्की आक्रमणकारियों को पराजित किया।

विग्रहराज चतुर्थ :- चौहानों की शक्ति का सबसे अधिक विस्तार इसी के समय में हुआ। उसने दिल्ली और हाॅंसी पर कब्जा किया तथा तुर्की आक्रमणकारियों को परास्त किया।


प्रथ्वीराज तृतीय / रायपिथौरा :- पृथ्वीराज चौहान तृतीय अपने पिता सोमेश्वर की मृत्यु के बाद 11 वर्ष की अवस्था में शासक बना। चौहान वंश के अंतिम शासक एवं भारत के अंतिम हिन्दु सम्राट पृथ्वीराज चौहान ने चालुक्यों एवं चन्देलों से युद्ध किया। पृथ्वीराज ने बुन्देलखण्ड के चन्देल शासक परमार्दिदेव को परास्त किया। इसी युद्ध में दो चन्देल वीर योद्धा आल्हा-उदल में से उदल मारा गया।

इनकी माता का नाम कर्पूरी देवी था।

चन्दबरदाई लोकसभा के प्रसिद्ध कवि, चौहान शासक पृथ्वीराज चौहान तृतीय के राजकवि एवं मित्र थे। इन्होनें पृथ्वीराज रासो ग्रन्थ की रचना की जिसे हिन्दी भाषा का प्रथम महाकाव्य कहा जा सकता है।


शेख हमीदुद्दीन नागौरी 1276 ई. में चिश्ती मत के प्रसिद्ध सन्त नागौर आकर बसे। एक किसान का सादा जीवन अपनाया।

रणथम्भार के चौहान :-
               इसकी स्थापना पृथ्वीराज चौहान तृतीय के पुत्र गोविन्दराज ने रणथम्भौर में 1194 ई. में चौहान वंश की नींव डाली। पृथ्वीराज चौहान के पुत्र गोविन्दराज के लिये मोहम्मद गौरी ने अपने दास कुतुबुद्धीन ऐबक को उसकी सुरक्षा के लिये नियुक्त किया जो कालान्तर में दास वंश का पहला शासक बना।

हम्मीर देव :- रणथम्भौर के प्रतापी शासक हम्मीर देव के साथ अलाउद्दीन खिलजी ने 16 युद्ध किये।


जालौर के चौहान :- 
संस्थापक कीर्तिपाल या कीतू।
कान्हड़दे जालौर के शासकों में सबसे प्रतापी शासक।

हाड़ौती के चौहान :-
             राजस्थान का दक्षिणी-पूर्वी भाग को हाड़ौती अंचल कहा जाता है।

            1241 ई. में देवी सिंह ने बूॅंदा मीण को हराकर बूॅंदी और देवी सिंह के पुत्र समर सिंह ने कोटिया भील को हराकर कोटा राज्य की स्थापना की।

परमार वंश (Parmar dynasty) India General Knowledge || India Gk || Parmar Vansh Indian History || Parmar Vans India History || Indian History || Online Teyari

-: परमार वंश :-
-: (Parmar dynasty) :-

परमार वंश (Parmar dynasty) :-
मुंज :-
               इन्होनें 997 ई. में परमार के आहड़, चितौड़, इन्द्रावती ‘आबू‘ , किराड़ू ‘बाड़मेर‘ , अर्थूना ‘बाॅंसवाड़ा‘ पर अधिकार किया। ये विद्वानों के संरक्षक के रूप में जाने जाते है।

परमारों का मूल स्थान मालवा माना जाता है।

भोज ‘1000-1055 ई.‘:-

परमार वंश का योग्य और प्रतापी शासक।

उपनाम कविराज

            चिकित्सा, विज्ञान, खगोलशास्त्र, वास्तुशास्त्र आदि विषयों पर 20 से अधिक ग्रन्थों की रचना की।

        भोज द्वारा लिखित ग्रन्थ समरांगणसूत्रधार ‘शिल्पशास्त्र‘ , सरस्वती कण्ठाभरण , श्रंगार प्रकाश ‘अलंकार शास्त्र‘ , पतंजलीयोगसूत्रवृति ‘योगशास्त्र‘ , कूर्मशतक , चम्पूरामायण, श्रृंगारमंजरी ‘काव्य नाटक‘, आयुर्वेद सर्वस्व, तत्व प्रकाश ‘शैव ग्रन्थ‘, नाममालिका, शब्दानुशासन, सिद्धान्त संग्रह, राजा-मार्तण्ड, विद्या-विनोद, युक्ति-कल्पतरू, चारू चर्चा, आदित्य-प्रताप सिद्धान्त आदि।

भोज ने कवि भास्कर भट्ट को विद्यापति की उपाधि प्रदान की।

अरूंधति भोज की पत्नी, प्रसिद्ध विदुषी थी।

              संस्कृत साहित्य में भोज का नाम अमर है। भोज प्रत्येक कवि को प्रत्येक श्लोक के लिये एक लाख रूपये देता था। भोज के दरबार में भास्कर भट्ट, दामोदर मिश्र, उवत और धनपाल जैसे विद्वान थे।

          धारा भोज ने परमारों की राजधानी उज्जयिनी के स्थान पर धारा को राजधानी बनाया।

            धारा का लौह स्तम्भ भोज के शासनकाल में निर्मित।

         भोज ने धारा नगरी के चैराहों पर चैरासी मंदिर बनवाये जिनमें सबसे प्रमुख शारदा सदन था।

           विभुनारायण का मंदिर भोज ने चितौड़गढ में इस भव्य शिव मंदिर की स्थापना की।

       भोज ने केदारेश्वर, रामेश्वर तथा सोमनाथ के मंदिर का निर्माण करवाया।

         भोज ने बिहार में भोजपुर नगर एवं भोजसागर नामक तालाब का निर्माण करवाया।

           भोजपुर के निकट उसने 250 वर्ग मील के क्षेत्र में एक विशाल झील का निर्माण कराया।

प्रतिहार वंश (Pratishan dynasty) Indian History || Pratihar Vansh Indian History || Prtihar Vansh Indian History || Ssc || Ibps || Rpsc || Bank Exams

प्रतिहार वंश (Pratishan dynasty)

प्रतिहार वंश :-

प्रतिहारों की तुलना मौर्य, गुप्त व मुगल शासकों से की जाती है, इन्होनें अरब आक्रमणकारियों से मुकाबला कर कुछ समय के लिये भारत की सम्भावित दासता को टाल दिया।

8 वीं व 10 वीं शताब्दी तक सम्पूर्ण प्रदेश गुर्जरत्रा के नाम से जाना जाता था।

प्रतिहार गुर्जर क्षेत्र के शासक होने के कारण ये गुर्जर नाम से जाने जाते थे। नैणसी ने 26 प्रतिहार शाखाओं का उल्लेख किया है। जिनमें मुख्य दो शाखाऐं है मण्डौर शाखा एवं भीनमाल शाखा।

मण्डौर शाखा:- इस वंश के प्रतापी शासक नागभट्ट ने अपनी राजधानी मण्डौर से परिवर्तित करके मेड़ता को बनाया।

भीनमाल शाखा :- इस वंश के शासक नागभट्ट द्वितीय ने प्रतिहार-पाल-राष्ट्रकूट संघर्ष में प्रतिहारों का प्रतिनिधित्व किया।

मिहिर भोज (836-866 ई) :- भोज-प्रथम, प्रभास, आदिवराह-मिहिर भोज को प्राप्त उपाधियां।
प्रतिहारों का सबसे शक्तिशाली शासक।
भोज द्वारा रचित ग्रन्थ - श्रृंगार।

इसकी राजनीतिक तथा सैनिक सफलताओं का उल्लेख कल्हण की राजतरंगिणी के अलावा अरब यात्री सुलेमान ने भी किया है।

सुलेमान भोज को इस्लाम का सबसे बड़ा शत्रु व अरबों के प्रति शत्रु भाव रखने वाला बताया गया है।

सुलेमान के अनुसार ‘‘इस राजा के पास बहुत बड़ी सेना है और अन्य किसी दूसरे राजा के पास उसकी जैसी अश्व सैना नहीं है। वह अरबों का शत्रु है। भारतवर्ष के राजाओं में उससे बढकर इस्लाम का कोई दूसरा शत्रु नहीं है।

महेन्द्र पाल :- (890-910 ई) :- इनके समय राजशेखर दरबारी कवि ने बाल भारत, बाल रामायण, कर्पूर मंजरी आदि ग्रन्थों की रचना की।

राजपूत वंश (Rajput clans) Indian History || Bhartiya Itihas || Rajput Vansh Indian History || Ssc || Ibps || Rpsc || Exam Notes

राजपूत वंश (Rajput clans)


राजपूत वंश :-

राजपूत युग 7 वीं शताब्दी ई. से 12 वीं शताब्दी ई. के मध्य माना गया है।

राजपूत शब्द संस्कृत के राजपुत्र शब्द से उत्पन्न माना गया है जो विशेष तौर पर एक यौद्धा जाति के लिये प्रयोग किया गया।

चन्दबरदाई ने हिंगल भाषा में रचित पृथ्वीराज रासो में राजपूतों की उत्पत्ति अग्निकुल से मानी है। इसके अनुसार जब पृथ्वी पर राक्षसों का आतंक बढ गया तो महर्षि वशिष्ठ ने इनके विनाश के लिये आबू पर्वत पर यज्ञ किया। यज्ञ की छवि से प्रतिहार, परमार, चैहान व  चालुक्य की उत्पति हुई।

कर्नल जेम्स टाॅड ने राजपूतों की उत्पति विदेशी जातियों से मानी है।

नयनचन्द्र सूरी द्वारा लिखित हम्मीर महाकाव्य में चैहानों को सूर्यवंशी माना गया है।

सी.वी. वैद ने राजपूतों को विशुद्ध भारतीय माना है।

गौरीशंकर ओझा ने इन्हें क्षत्रिय बताया।

राजपूत युग के मंदिर प्रमुखतः नागर और बेसर शैली में बनवाये गये।

कुषाण काल (Kushan period) India Gk || Kushan Kal India Gk || Kusan Kal India Gk || Ssc || Ibps || Rpsc

कुषाण काल (Kushan period) 


कुषाण काल :-

              कनिष्क के शीलालेखों से ज्ञात होता है कि 83 ई. से 119 ई. तक राजस्थान का पूर्वी भाग कुषाणों के अधीन रहा।

          सुदर्शन झील अभिलेख से ज्ञात होता है कि कुषाणों का राज्य राजस्थान में साबरमती नदी के आस - पास विस्तृत था।

मौर्य काल (Mauryan period) India Gk || Morya Kal India Gk || India Gk Morya Kal || Ssc || Ibps || Rpsc

 मौर्य काल (Mauryan period) India Gk

 मौर्य काल (Mauryan period) :-

           राजस्थान में मौर्य युग के प्रमाण भाब्रू गांव से एक लघु शीलालेख के रूप में प्राप्त हुए है। यह पाषाणफलक शीलालेख भी कहलाता है।

        अपने ढंग का अकेला शीलालेख है जिसमें अशोक ने सात बौद्ध पुस्तकों के नाम बताये है। इस अभिलेख से सिद्ध होता है कि अशोक बौद्ध था।

           बीजक पहाड़ी यहां अशोककालीन गोल बौद्ध मंदिर, स्तूप एवं मठ के अवशेष मिले है।

जनपद काल (District Period) India Gk In Hindi || India Gk Janpad Kal In Hindi || Janpad Kal India Gk || Ssc || Ibps || Rpsc


जनपद काल:-

मत्स्य जनपद :-

अलवर का क्षेत्र तथा वर्तमान जयपुर इस जनपद मे शामिल था।
राजधानी विराटनगर।
वर्तमान में राज्य का पूर्वी भाग मत्स्य क्षेत्र कहलाता है।
इसमें अलवर, करौली, दौसा एवं भरतपुर जिले का कुछ भाग आता है।
मत्स्य शब्द का सर्वप्रथम उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है जहां मत्स्य निवासियों को सुदास का शत्रु बताया गया है।

कुरू जनपद :-

वर्तमान उतरी अलवर इसका प्रमुख क्षेत्र था।
राजधानी इन्द्रपथ।

जांगल:-

बीकानेर और जोधपुर जिलों को महाभारत काल में कहा जाता है।

शूरसेन जनपद :-

इसका क्षेत्र वर्तमान पूर्वी अलवर, धौलपुर, भरतपुर तथा करौली था।
राजधानी मथुरा।

शिवि जनपद :-

मेवाड़ प्रदेश (चितौड़गढ) नामकरण की दृष्टि से द्वितीय शताब्दी में शिव जनपद (राजधानी माध्यमिका) के नाम से प्र्रसिद्ध था। बाद में ‘प्राग्वाट‘ नाम का प्रयोग हुआ।
कालान्तर में इस भू भाग को ‘मेदपाट‘ नाम से सम्बोधित किया गया।
इस जनपद का उल्लेख पाणिनी कृत अष्टाध्यायी से मिलता है।
उतरी राजस्थान में यौद्धेय जाति का जनपद स्थापित हुआ।

राजस्थान की सांस्कृतिक घरोहर के संरक्षक - RAJASTHAN KI SANSKRITIK DHAROR K SANRAKSHAK RAJASTHAN GK || GK RAJASTHAN RAJASTHAN KI SANSKRITIK DHAROR K SANRAKSHAK RAJASTHAN GK || RAJASTHAN KI SANSKRITIK DHAROR K SANRAKSHAK RAJASTHAN GK || Ssc || Ibps || Rpsc


राजस्थान की सांस्कृतिक घरोहर के संरक्षक
RAJASTHAN KI SANSKRITIK DHAROR K SANRAKSHAK



1. सद्दीक खां:-
जन्म: झांपली गांव, शिव,बाड़मेर ।
खड़ताल का जादूगर
तुलसी सम्मान मध्यप्रदेश सरकार के द्वारा ।

2. मांगीबाई:-
जन्म: वार्निया चितौड़गढ,
तेरहताली की नृत्य
केशरिया बालम की गायिका

3. श्रीलाल जोशी :- 
जन्म: भीलवाड़ा 
फड़ कला के फनकार ।

4. जहूर खां :-
भफंग के प्रयाय
गुरु: तोतानाथ
मेवाती लोक गायक ।

5. बन्नों बेगम:-
मांड गायिका ।

6. गवरी देवी:-
मांड गायिका ।

7. पेपे खां:-
सुरणाई के बिसमिल्ला खां ।

8. अल्लाहजिल्लाई बाई:-
मांड गायिका
20 मई 1982 को तत्कालीन राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने पद्म श्री से सम्मानित किया ।

9. रामकिशन:-
जन्म: 1938 , पुश्कर में
नगाड़े का जादूगर ।


राजस्थान में हस्तशिल्प - RAJASTHAN ME HASTSHILP RAJASTHAN GK || RAJASTHAN ME HASTSHILP RAJASTHAN GK || RAJASTHAN GK || Ssc || Ibps || Rpsc

-: राजस्थान में हस्तशिल्प :- 
(RAJASTHAN ME HASTSHILP)



1. टेराकोटा :-
     लोकदेवता व देवियों की मूर्तियों व बर्तनो को आग में पकाकर मिट्टी से बनाने की कला ।
      मोलेला गांव ,उदयपुर ,टेरीकोटा के लिए प्रसिद्ध है ।

2. बल्यू पोटरी :-
       कृपाल सिंह शेखावत ।                                         
3. थेवाकला :-
       प्रतापगढ विख्यात नाथूजी सोनी ।                                 
4. उस्ताकला :-
       हिसामुद्धीन उस्ता , बीकानेर , उंट की चमड़ी पर चमकदार व बारीक पारदर्शी चित्रकारी ।                                                  
5. कोटाडोरिया :-
       कोटा की प्रसिद्ध कोटाडोरिया की साड़ियां, अंसारी मुसलमान

6. पिछवाई :- 
      नाथद्वारा श्रीनाथ जी , कपड़े पर चित्रित चित्र शैली जिसे मंदिरों में मूर्ति के पिछे दीवार को ढकने के लिए प्रयुक्त किया जाता है,कृश्ण लीलाओं का चित्रण ।