Rclipse - Education Point

Study Notes For SSC IBPS RPSC

Free Online Mock Tests

Free Online Mock Tests
Get Free Now

Latest Study Material

राजस्थान के जिलों की आकृतियों की समानता (Rajasthan Me Jilo Ki Aakriti) || राजस्थान के जिलों की आकृति (Rajasthan Ke Jilo Ki Aakriti) || Rajasthan Ke Jhilo Ki Aakriti



राजस्थान के जिलों की आकृति


  • अजमेर : त्रिभुजाकार
  • भीलवाड़ा :आयताकार
  • चित्तौड़गढ़ : घोड़े की नाल की समान
  • उदयपुर : ऑस्ट्रेलिया के समान
  • जालौर : व्हेल मछली के समान
  • राजसमंद : तिलक के समान
  • जैसलमेर : सप्तबहुभुजाकार
  • जोधपुर : मयूर आकार
  • सीकर : प्यालानुमा अर्धचंद्राकार
  • टोंक : पतंग आकार


राजस्थान में सूती वस्त्र उद्योग (Cotton Textile Industry In Rajasthan) | Rajasthan Me Suti Vastra Udhog || SSC || IBPS || RPSC



राजस्थान में सूती वस्त्र उद्योग
(Cotton Textile Industry In Rajasthan)


राजस्थान में कृषि पर आधारित उद्योगों में सूती वस्त्र उद्योग प्रमुख है। राजस्थान निर्माण के समय यहाँ सूती कपड़े की कुल 7 मिलें थीं। जो मार्च 1990 में 34 तक हो गई किन्तु 2001 में घटकर इनकी संख्या 22 ही रह गई। सूती वस्त्र से ही जुड़ी धागा बनाने वाली मिल , जिनकी संख्या 50 है। वास्तव में वर्ष 2009-10 में राज्य में सूती वस्त्र निर्माण विषयक 68 कारखाने हैं।

राज्य में प्रथम सूती कपड़ा मिल 1889 में ‘दी कृष्णा मिल्स लिमिटेड' के नाम से ब्यावर में स्थापित की गई। वर्ष 1906 में ब्यावर में ही दूसरी और 1955 में यहाँ तीसरी मिल स्थापित की गई। इस प्रकार ब्यावर सूती वस्त्र उद्योग का केन्द्र बन गया। वर्ष 1988 में भीलवाड़ा में, 1942 में पाली में तथा 1946 में श्रीगंगानगर में सूती वस्त्र मिलें स्थापित की गईं। स्वतन्त्रता के पश्चात्सूती वस्त्र उद्योग का पर्याप्त विस्तार हुआ। कोटा, भीलवाड़ा, किशनगढ़, जयपुर, उदयपुर, गंगापुर, बांसवाड़ा, आबूरोड, अलवर, गुलाबपुरा, भवानीमण्डी, जोधपुर आदि नगरों में सूती वस्त्र मिलें स्थापित की गईं। आज यावर, किशनगढ़, भीलवाड़ा, पाली, उदयपुर, श्रीगंगानगर, कोटा, सूती वस्त्र उद्योग के प्रमुख केन्द्र हैं। फरवरी 2009 में केन्द्र सरकार ने भीलवाड़ा को वस्त्र निर्यातक नगर का दर्जा दिया है।

राज्य में स्थापित अधिकांश मिलों की मशीनें पुरानी हो जाने से उत्पादन प्रभावित हो रहा है। यद्यपि आधुनिकीकरण के उपाय किए जा रहे हैं, किन्तु वे सीमित हैं। राज्य में सूती धागे एवं सूती वस्त्र का उत्पादन वर्ष 2009-10 में क्रमशः 1058 लाख किग्रा एवं 498 लाख मी का उत्पादन किया गया। राज्य में निजी क्षेत्र की 17 सूती वस्त्र मिलें कार्यरत हैं।

राजस्थान में सीमेंट उद्योग (Cement Industry in Rajasthan) || Rajasthan Me Cement Udhog || SSC || IBPS || RPSC



राजस्थान में सीमेंट उद्योग
(Cement Industry in Rajasthan)


राजस्थान में सीमेन्ट उद्योग का समुचित विकास हुआ है और भावी विकास की सम्भावना भी है, क्योंकि उसके लिए आवश्यक कच्चा माल चूने का पत्थर (लाइम स्टोन) यहाँ प्रचुरता में उपलब्ध है। एक टन सीमेन्ट तैयार करने में लगभग 1.6 टन चूने के पत्थर की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्त जिप्सम भी यहाँ उपलब्ध है। कोयला अवश्य बाहर से आयात करना होता है। राज्य में प्रथम सीमेन्ट का कारखाना 1915 में लाखेरी (बूंदी) में स्थापित किया गया। वर्तमान में राज्य में सीमेन्ट की 12 बड़ी इकाइयाँ और अनेक लघु प्लाण्ट सक्रिय हैं। आँकड़ों के आधार पर राज्य में 115 लघु सीमेन्ट प्लाण्ट स्थापित किए गए जिनकी संयुक्त क्षमता 6 लाख टन है, किन्तु इनमें से अनेक अब बन्द हो चुके हैं। राज्य के सीमेन्ट कारखानों में सर्वाधिक क्षमता जे.के. सीमेन्ट (निम्बाहेड़ा) की तथा न्यूनतम श्री राम सीमेन्ट (कोटा) की है।

राज्य में सीमेन्ट निर्माण के प्रमुख कारखाने
  • ए.सी.सी.लि. लाखेरी (बूंदी) 1971 में स्थापित
  • जयपुर उद्योग, सवाई माधोपुर (बन्द पड़ा है।
  • बिड़ला सीमेन्ट वक्र्स लि. चित्तौड़गढ़।
  • चितौड़गढ़ सीमेन्ट वक्र्स लि. चित्तौड़गढ़ (चेतक छाप)
  • मंगलम सीमेन्ट, मोडक (कोटा) बिड़ला
  • श्री सीमेन्ट ब्यावर (श्रीछाप)
  • जे.के, सीमेन्ट लि (जे.के. छाप) (निम्बाहेड़ा)
  • स्ट्रा प्रोडक्ट्स बनास सिरोही)
  • श्रीराम सीमेन्ट, श्री रामनगर (कोटा)
  • बिड़ला व्हाइट सीमेन्ट, गोटन
  • हिन्दुस्तान सीमेन्ट, उदयपुर
  • राजश्री सीमेन्ट, खारिया, मीरापुर (नागौर)

राज्य में सीमेन्ट उत्पादन की स्थिति


सन् 1951 में राज्य में सीमेन्ट उत्पादन के दो कारखाने लाखेरी (बूंदी) व सवाई माधोपुर में थे जिनमें प्रतिवर्ष 25 लाख टन सीमेन्ट उत्पादन होता था। इनके बाद राज्य में अनेक सीमेन्ट उत्पादन कारखाने स्थापित हुए जिससे सन् 2000 में सीमेन्ट उत्पादन बढ़कर 92 लाख टन हो गया। राजस्थान खनिज विभाग तीन और जिलों में सीमेन्ट उत्पादन के 10 लाइम स्टोन ब्लॉक्स लगाने की तैयारी कर रहा है। इससे प्रदेश के सीमेन्ट उत्पादन में करीब 25 मिलियन टन की बढ़ोतरी हो जाएगी। अभी प्रदेश में सीमेन्ट उत्पादन के 15 प्लाण्ट लगे हुए हैं, जिनसे 43 मिलियन टन सीमेन्ट का उत्पादन हो रहा है। विभाग जैसलमेर में 6, चित्तौड़गढ़ और नागौर में 2-2 ब्लॉक्स खोलने की तैयारी कर रहा है।



राजस्थान में ऊनी वस्त्र उद्योग (Woolen Textile Industry in Rajasthan) || Rajasthan Me Uni Vastra Udhog || SSC || IBPS || RPSC Notes


राजस्थान में ऊनी वस्त्र उद्योग
 (Woolen Textile Industry in Rajasthan)



राजस्थान में ऊन का व्यवसाय बहुत पुराना एवं महत्वपूर्ण है। यहाँ पश्चिमी राजस्थान में भेड़ पाली जाती हैं। भारत की 25% भेड़ (.90 लाख ) राजस्थान में ही पाली जाती हैं जिनसे लगभग 126.77 लाख किग्रा ऊन प्राप्त होती है। ऊन से कम्बल, नमदे, आसन, स्वेटर, जरसी, घुग्घी, घोड़ों तथा ऊँटों की जीन, मोटा ऊनी कपड़ा, शाल, दुसाला आदि बनाए जाते हैं।

ऊन उद्योग की प्रमुख इकाइयाँ निम्न हैं

(1) स्टेट वूलन मिल्स, बीकानेर
(ii) वर्टेड स्पिनिंग मिल्स, चूरू
(iii) विदेशी आयातनिर्यात संस्थान, कोटा
(iv) वर्टेड स्पिनिंग मिल्स, लाडनू

मालपुरा एवं टोंक में भी नमदे, आसन, घुग्घियाँ, चकमें आदि बनाए जाते हैं। यहाँ के नमदे देशविदेश में प्रसिद्ध हैं। भीलवाड़ा में एक प्रोसेसिंग हाउस का निर्माण हुआ है जिसकी प्रोसेसिंग क्षमता 6 लाख कम्बल प्रतिवर्ष है।

भारत की जनगणना 2011 (India Census 2011) || India Gk Mock Test || Mock Test || MockTime || Mock Time || OnlineTyari India Census Online Test || SSC || IBPS || RPSC





1जनगणना 2011 के अनुसार सबसे ज्यादा साक्षरता किस राज्य की है ?

A. लक्षदीप
B. केरल
C. महाराष्ट्र
D. मिजोरम

(B) केरल




2किस राज्य में साक्षरता सबसे कम है ?

A. राजस्थान
B. उड़ीसा
C. बिहार
D. अरूणाचल प्रदेश

(C) बिहार




3भारत में 2001 से 2011 में साक्षरता दर में कितने प्रतिशत की वृद्धि हुई है ?

A. 8.2 %
B. 3.9 %
C. 6.8 %
D. 11.2 %

(A) 8.2 %




4वर्तमान में प्रति 1000 पुरूषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या कितनी हो गई है ?

A. 900
B. 841
C. 943
D. 933

(C) 943




5 भारत में बाल (0-6 आयु वर्ग) लिंगानुपात क्या हो गया है ?

A. 1000:927
B. 1000:919
C. 1000:830
D. 1000:970

(B) 1000:919




6केरल में प्रति हजार पुरूषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या कितनी है ?

A. 1038
B. 971
C. 950
D. 1084

(D) 1084




7सबसे कम लिंगानुपात कहां पर है ?

A. दमन व दीव
B. हरियाणा
C. दादरा व नगर हवेली
D. पंजाब

(A) दमन व दीव




8 सबसे कम लिंगानुपात वाला राज्य कौनसा है ?

A. बिहार
B. हरियाणा
C. पंजाब
D. राजस्थान

(B) हरियाणा




9किस राज्य की जनसंख्या वृद्धि दर 2001-2011 में ऋणात्मक थी ?

A. गोवा
B. राजस्थान
C. नागालेण्ड
D. मिजोरम

(C) नागालेण्ड




10सबसे ज्यादा जनसंख्या घनत्व वाला क्षेत्र कौनसा है ?

A. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली
B. महाराष्ट्र
C. उतर प्रदेश
D. चंडीगढ

(A) राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली


Rajasthan Gk Mock Test - 2 || MockTime || Mock Time || OnlineTyari Free Online Test || Free Online Mock Test || SSC || IBPS || RPSC







1राजस्थान में 1857 की क्रान्ति का सूत्रपात कब हुआ ?

A. 29 मार्च 1857
B. 31 मई 1857
C. 28 मई 1857
D. 01 जुलाई 1857

(C) 28 मई 1857




2 1857 की क्रान्ति के समय राजस्थान में कितनी सैनिक छावनियां थी ?

A. 7
B. 8
C. 6
D. 9

(C) 6




31857 की क्रान्ति के समय राजस्थान में ए.जी.जी. थे ?

A. मैकमोसन
B. पेट्रिक लाॅरेन्स
C. कर्नल ईडन
D. मेजर बर्टन

(B) पेट्रिक लाॅरेन्स




4 1857 की क्रान्ति का राजस्थान में सबसे भीषण विप्लव कहां पर हुआ ?

A. कोटा
B. जोधपुर
C. जैसलमेर
D. नसीराबाद

(A) कोटा




5 किस छावनी के सैनिकों ने विद्रोह के पश्चात ‘चलो दिल्ली मारो फिरंगी‘ का नारा दिया ?

A. नसीराबाद
B. देवली
C. एरिनपुरा
D. नीमच

(C) एरिनपुरा




6राष्ट्रीय क्रान्तिकारी जिन्होने राजस्थान में 1857 की क्रान्ति को आगे बढाया ?

A. कुंवर सिंह
B. झांसी की रानी
C. तांत्या टोपे
D. अजीमुल्ला

(C) तांत्या टोपे




7किन छावनियों ने 1857 की क्रान्ति में प्रत्यक्ष भाग नहीं लिया ?

A. नीमच व खैरवाड़ा
B. नसीराबाद व लाखर
C. देवली व खैरवाड़ा
D. ब्यावर व खैरवाड़ा

(D) ब्यावर व खैरवाड़ा




8 कोटा का विद्रोह किस रियासत की सेना की सहायता से दबाया गया ?

A. भरतपुर
B. जयपुर
C. करौली
D. जोधपुर

(C) करौली




9राजस्थान में 1857 की क्रान्ति का सूत्रपात करने वाली सैनिक छावनी थी ?

A. मेरठ की छावनी
B. नीमच की छावनी
C. एरिनपुरा की छावनी
D. नसीराबाद की छावनी

(D) नसीराबाद की छावनी




10 आउआ के ठाकुर जिन्होने 1857 की क्रान्ति के समय क्रान्तिकारियों का नेतृत्व किया ?

A. कुंपसिंह चम्पावत
B. ठाकुर कमलसिंह चम्पावत
C. कुशाल सिंह चम्पावत
D. तख्त सिंह चम्पावत

(C) कुशाल सिंह चम्पावत